हथिनी की हत्या के बाद ,एक गाय को भी इसी तरह बेरहमी से विस्फोटक खिलाकर जख्मी || LIVE IMAGE

live image,himachal pradesh cow news,himachal pradesh cow,himachal pradesh,cow attack in himachal pradesh,cow himachal pradesh,himachal cow incident,himachal cow news,cow,cow death in himachal pradesh,himachal pradesh cow video,cow injured himachal pradesh,cow cruelty himachal pradesh,pregnant cow himachal pradesh,cow killed in himachal pradesh,himachal pradesh cow news hindi,himachal pradesh cow gets injured,pregnant cow case himachal pradesh,pregnant cow died in himachal pradesh,cow attack in bilaspur


थिनी की हत्या के बाद ,एक गाय को भी इसी तरह बेरहमी से विस्फोटक खिलाकर जख्मी करने के बाद इंसानियत फिर हुई शर्मशार


इंसान की इंसानियत न जाने कहाँ दफ्न हो गई है ,हालही के दिनों में एक गर्भवती हथिनी की बेरहमी से
हत्या कर दी गई।जिसके चलते यह खबर चर्चा में आई और लोगों ने सोशल मीडिया के माध्यम से
आक्रोश भी जताया। लेकिन उसके तुरंत बाद ही सोशल मीडिया के माध्यम से एक और वीडियो वायरल
हुआ जिसमें गाय को भी इसी तरह बेदर्दी से मौत के घाट उतारने के नाकाम कोशिश की गई है। यह
घटना 26 मई को हिमाचल प्रदेश के बिलासपुर जिले के जंदत्ता छेत्र की है। जहां एक गाय को खाने में
चारा देने के साथ उसमें विस्फोटक मिला कर उसे जान से मारने की घिनौनी साज़िश को अंजाम दिया
गया। विस्फोटक खाने की वजह से गाय का ऊपर और नीचे का जबड़ा पूरी तरह से फट गया। इस पर
एक पुलिस अधिकारी ने कहा कि " गेहूँ के आटे की गेंद के अंदर रखा गया एक आलू बम गाय को
खिलाया गया था। जिसके बाद गाय का मुँह चला गया"।स्थानीय लोगों ने आरोपियों के खिलाफ सख्त
कार्रवाई की मांग की है।
जिसके बाद हिमाचल प्रदेश पुलिस ने पशु क्रूरता निवारण अधिनियम के तहत मामला दर्ज कर लिया है।
गाय के मालिक से पूछताछ करने के बाद "मालिक ने आरोप लगाते हुए कहा कि यह करतूत उसके
पड़ोसी की है। पड़ोसी ने उसकी गाय को विस्फोटकों से भरी गेहूँ के आटे की गेंद खिलाई और उसने जो
किया उसके लिए उसे कोई पछतावा भी नहीं है।" खबरों के मुताबिक "आरोपी ने इस अपराध को सिर्फ
इसलिए अंजाम दिया क्योंकि उस गाय ने उसकी फ़सल खराब कर दी।" लेकिन उस मासूम गाय को यह
बात नहीं पता थी की एक फसल नष्ट करने पर उसे धोखे से इतनी बड़ी सज़ा दे दी जाएगी।
बता दें कि शिकारियों ने जंगली सूअरों को मारने के लिए इसी तरह के तरीकों का इस्तेमाल किया था।
जिसके बाद कुछ लोगों ने इसे अपने मनोरंजन का तरीका तो कुछ लोगों ने बेक़सूर जानवरों से बदला
लेने का साधन बना लिया है। इस घटना ने इंसानियत को पूरी तरह से शर्मशार कर दिया है।
गाय जिसे वेदों में माता का दर्जा दिया गया है, जिसकी पूजा की जाती है,जो निश्वार्थ भाव से दूध देती
है और जिसका दूध पी कर आज इंसान इस काबिल हो गया है कि वे एक मूक और बेक़सूर जानवर से
बदला लेने के लिए अपनी हैवानियत की हद्द पार कर देता है ऐसे लोग इंसान के नाम पर धब्बा हैं।इस
घटना ने लोगों के दिलों को झकझोर कर रख दिया है।


- निकिता शुक्ला
Previous
Next Post »