हम शरणार्थी by Dr. Agni Shekhar || LIVE IMAGE

अपने ही देश में
हम शरणार्थी
उपेक्षित जैसे उगी 
अनचाही घास 
संसद के कंक्रीट आँगन में
लोकतंत्र का अट्टहास 
         हम ज़िन्दा पुरातत्व 
और इतिहास 

मरते भी नहीं अभागे
कैंपों में सड़ते कृमि 
कुलबुलाते बार बार 
अपने अकेले कवियों के गद्य में
जुलूसों में जैसे फैलते
बेतरतीब रंगों में
केन्द्र सरकारें हैं
   खुरदुरा कैनवस इनका

हम 
गाते हैं बेसुरी राग 
मुकाम और बंदिश का कोई
तरतीब नहीं हमें
लगता ही नहीं संगीत शिरोमणि
शारंगदेव के वंशज हैं
मूलाधार से बेढंगी
खींचते सड़कों पर तान
ध्यान नहीं देता फिर भी 
हिंदुस्तान 

हम कश्मीरी शरणार्थी 
संघियों के लिए नेहरूपंथी
सेक्युलरवादी
वामियों को लगते
हिंदुत्ववादी दक्षिणपंथी
जेहादियों को काफिर 
'जासूस भारत के'
शेख अब्दुल्लाहों की दृष्टि में
          हम  कुफ्र के दूत

लिखा शरणार्थी-कैम्प में
कवि मोती लाल 'साक़ी' ने
हम इस देश के नये अछूत

हम शरणार्थी 
सौतेले युग में दशकों से बैठे 
तख्तियां लिए जंतर-मंतर पर
संसद की खिड़की से देखता 
हर प्रधानमंत्री 
थोड़े थोड़े अंतर पर
ये ढीठ अभी भी नहीं हुए
छूमंतर 

(सुप्रीमकोर्ट-वकील और राजनीतिक विश्लेषक अशोक भान के लिए)
20/6/2021

 
Dr. Agni Shekhar
Poet , Writer, Activist in Exile


PT -3 THE UNTOLD STORY - GENOCIDE OF KASHMIRI PANDITS (19 JANUARY 1990) || English Subtitles
Previous
Next Post »